Advertisement

ranchi

  • Apr 21 2017 1:40AM

पंडरा बाजार में दिया नोटिस, 30 दिन में खाली करें दुकान, ठप होगा कारोबार

पंडरा बाजार में दिया नोटिस, 30 दिन में खाली करें दुकान, ठप होगा कारोबार
ई-ट्रेडिंग के लिए सूचीबद्ध 69 कृषि उत्पाद का ही हो सकेगा व्यापार
रांची : पंडरा कृषि उत्पादन बाजार समिति परिसर की दुकानें खाली करने का फरमान पणन सचिव ने जारी कर दिया है़ व्यापारियों को 30 दिनों के अंदर दुकानें खाली करने काे कहा गया है़ अनदेखी करनेवालों पर कार्रवाई करने की बात कही गयी है. गुरुवार को इससे संबंधित नोटिस रिसीव कराया गया. बंद प्रतिष्ठानों में भी नोटिस चिपकाया गया़  इसकी फोटोग्राफी भी करायी गयी. 
 
समिति की ओर से जारी आदेश में कहा गया है ई-ट्रेडिंग के तहत बाजार प्रांगण में सूचीबद्ध केवल 69 कृषि उत्पादों का ही व्यापार किया जा सकेगा़ समिति के इस फरमान से पंडरा बाजार समिति परिसर में चल रही छोटी-बड़ी आठ सौ दुकानों से व्यापार ठप हो जायेगा़ पंडरा समिति से 12 सौ लाइसेंसधारी व्यापारी यहां व्यवसाय करते है़ं पंडरा में थोक व खुदरा व्यवसाय करनेवाले प्रतिष्ठानों से आठ से 10 हजार लोगों को रोजगार मिला है़ं करीब इतने ही मोटिया मजदूर भी जुड़े हैं. इस फरमान से सभी प्रभावित होंगे. 
 
पंडरा बाजार समिति झारखंड में खाद्यान्न की सबसे बड़ी मंडी है़ यहां चावल, दाल, गुड़, चीनी, तेलहन, आटा, नमक, मसाला के थोक विक्रेता भी है़ं इस मंडी से आलू, प्याज, लहसुन समेत अन्य खाद्य पदार्थों का व्यवसाय होता है़ झारखंड के हर जिले से व्यवसायी यहां पहुंते है़ सिमडेगा, गुमला, लोहरदगा, खूंटी, चतरा, लातेहार, मेदिनीनगर, गढ़वा, साहेबगंज, दुमका, गोड्डा, कोडरमा, हजारीबाग, चतरा, गिरिडीह से व्यवसायी थोक खरीदारी के लिए यहां पहुंचते है़ पंडरा बाजार समिति की दुकानें बंद हुईं, तो इस पर भी बुरा असर पड़ेगा़ 
 
इन उत्पादों का होगा कारोबार 
 
समिति का कहना है कि अब पंडरा बाजार में इ-नाम के तहत अरहर गोटा, मूंग गोटा, मसूर गोटा, उरद गोटा, गेहूं, बाजरा, चना गोटा, मकई, बारली, ज्वार, धान, राजमा, मड़ुआ, लोबिया, बासमती चावल, कस्टर्ड सीड, मस्टर्ड सीड, सोयाबीन, मूंगफली, कॉटन सीड, सूरजमुखी का बीज, कुसुम बीज, तिल, सेव, नाशपाती, कीनू, सपोटा, मस्क मेलन, टेबल ग्रेप्स, लीची, अनार, केला, प्लम फ्रूट, सतालू, आम, नारंगी, कस्टर्ड एपल, तरबूज, नींबू, प्याज, टमाटर, मटर, लौकी, करैला, खीरा, बैंगन, बंधगोभी, फूलगोभी, हरी मिर्च, गाजर, कांदा, पालक साग, सरसों साग, आलू, धनिया पत्ता, लहसुन, भिंडी, अरदख, चुकंदर, रीब्ड सेलरी, जीरा, लाल मिर्च, हल्दी गोटा, अजवायन, धनिया गोटा, ग्वार गम, महुआ फूल, इमली एवं गुड़ का व्यापार होगा.
 
राेज 300 गाड़ियां पहुंचती हैं 
 
पहले पंडरा बाजार समिति में आने-जाने वाली गाड़ियों के आंकड़े रखे जाते थे़ बाजार समिति के जानकारों के अनुसार पंडरा बाजार समिति में हर दिन 300 से 400 गाड़ियों का आना-जाना लगा रहता है़ दूसरे जिलों से आनेवाले खरीदार अपनी जरूरत के हिसाब से गाड़ियां लेकर पहुंचते है़ं मंडी में दूसरे राज्यों से खाद्यान्न की बड़ी गाड़ियां पहुंचती है़ं
 
व्यापारी हैं गुस्से में 
 
इस फरमान से पंडरा बाजार के व्यापारियों में आक्रोश है. उनका कहना है कि अब हमारे लिए करो या मरो की स्थिति हो गयी है. रांची चेंबर के अध्यक्ष शंभू गुप्ता ने कहा कि यहां केवल व्यापारियों को प्रताड़ित किया जा रहा है. सरकार हमारे परिवार को सड़क पर लाने की तैयारी कर रही है. 
 
नहीं है कोई ऐसा नियम 
 
रांची चेंबर का कहना है कि ई-ट्रेडिंग के लिए जारी अधिसूचना में 69 वस्तुओं के अलावा और अन्य वस्तुओं की बिक्री नहीं होगी, कहीं भी ऐसा जिक्र नहीं है. आखिर किस नियम के तहत ऐसा किया जा रहा है? 
 

Advertisement

Comments

Advertisement