Advertisement

Pakistan

  • Apr 20 2017 11:51AM

जाधव मामले में पाक के पूर्व राजनयिक ने ही खड़े किये सवाल, कहा - जासूसी का खेल भारत के साथ शांति संबंध में पैदा कर रहा मुश्किलें

जाधव मामले में पाक के पूर्व राजनयिक ने ही खड़े किये सवाल, कहा - जासूसी का खेल भारत के साथ शांति संबंध में पैदा कर रहा मुश्किलें

वाशिंगटन : अमेरिका में पाकिस्तान के पूर्व राजनयिक हुसैन हक्कानी ने भारतीय सेना के पूर्व अधिकारी कुलभूषण जाधव को जासूसी के जुर्म में सैन्य अदालत की ओर से मौत की सजा सुनाये जाने की घटना की आलोचना की है. उन्होंने गुरुवार को कहा कि इस्लामाबाद का यह ‘जासूसी खेल' दक्षिण एशिया के इन पड़ोसी मुल्कों के लिए शांति की संभावनाएं तलाशना भी मुश्किल कर रहा है. हक्कानी ने कहा कि जासूसी के लिए जाधव की दोषसिद्धि ज्यादा विश्वसनीय लगती, अगर यह खुली सुनवाई के बाद सुनायी गयी होती.

इसे भी पढ़ें : कुलभूषण जाधव मामला: अपनी छवि बचाने के लिए पाकिस्तान की पैतरेबाजी

हक्कानी ने वॉल स्टरीट जर्नल के लिए लिखे संपादकीय में कहा कि लेकिन पाकिस्तान के साथ सुनवाई की अल्प एवं गोपनीय समयसीमा का ज्यादा लेना देना आंतरिक आयाम से रहा होगा, न कि मामले की गंभीरता से. हक्कानी वर्तमान में हडसन इंस्टीट्यूट में दक्षिण एंव पश्चिम एशिया के निदेशक हैं. उन्होंने कहा कि नयी बातचीत की गति को कुंद करने के लिए एक भारतीय को मौत की सजा के विवाद में फंसाना अधिक आसान रास्ता था.

इसे भी पढ़ें : कुलभूषण जाधव मामले में अंतरराष्ट्रीय कोर्ट का दरवाजा खटखटाएगा भारत !

पूर्व राजनयिक ने अपने लेख में कहा कि ऐसे वक्त में जबकि हिंदू धर्म की ओर भारत का झुकाव बढ़ रहा है और पवित्र मानी जानी वाली गायों की रक्षा को लेकर देश के अल्पसंख्यकों के खिलाफ हिंसा का भय है, उस वक्त पाकिस्तान का जासूसी का खेल दक्षिण एशिया के दोनों पड़ोसी मुल्कों के लिए शांति को हासिल करने की बात तो छोड़ ही दीजिए. यह शांति की तलाश तक को मुश्किल कर रहा है.

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने हाल ही में भारत के साथ संबंध सुधारने की बात दोहराई थी. उन्होंने कहा कि नयी बातचीत की गति को कुंद करने के लिए एक भारतीय को मौत की सजा के विवाद में फंसाना अधिक आसान रास्ता था. उन्होंने आरोप लगाया कि यह असंभव है कि पाकिस्तान अपनी राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए आतंकवादी गुटों के इस्तेमाल की नीति में बदलाव करे. हक्कानी ने कहा कि पाकिस्तान की सैन्य और खुफिया ईकाई अपने क्षेत्रीय दबदबे को कायम रखने के औजार के रूप में जिहादी समूहों को समर्थन देने की अपनी नीति को बदलने की इच्छुक नहीं है.

Advertisement

Comments

Advertisement