Advertisement

life and style

  • Apr 8 2017 12:58PM

Jesus died for our sins : जानें, क्या है palm sunday का महत्व

Jesus died for our sins : जानें, क्या है palm sunday का महत्व

ईसा मसीह को मानवता का अवतार माना जाता है, जिन्होंने मानव कल्याण के लिए सूली पर चढ़ना स्वीकारा. कहा भी जाता है- Jesus died for our sins. उन्हें गुड फ्राइडे के दिन सूली पर चढ़ा दिया गया था. इससे पहले रविवार के दिन उन्हें येरूशलम लाया गया था. जब ईसा मसीह ने येरूशलम में प्रवेश किया, तो उनके अनुयायियों ने उनके स्वागत में खजूर के पत्ते सड़क पर बिछाये और खजूर के पत्तों को हाथ में लेकर उनका स्वागत गान किया. यही कारण है कि आज भी पाम संडे(खजूर रविवार) के दिन लोग खजूर के पत्तों को लेकर पाम संडे की प्रार्थना में शामिल होते हैं.


 

गुड फ्राइडे के पहले 40 दिन का शोककाल
गुड फ्राइडे के पहले 40 दिन का शोककाल होता है, इस दिन की शुरुखात ‘राख बुधवार’ से होती है. इस दिन चर्च में राख बुध की धर्मविधि संपन्न होती है. प्रीस्ट श्रद्धालुओं के माथे पर राख लगाते हैं और चालीसाकाल की शुरुआत होती है. इन 40 दिनों में लोग प्रार्थना, दुखभोग, पश्चाताप, दान और उपवास करते हैं. इस काल का समापन ईस्टर से होता है.
 
जिस दिन ईसा मसीह सूली पर चढ़ाये गये वो ‘गुड’ कैसे?
ऐसा माना जाता है कि चूंकि यह God का दिन है इसलिए इसे Good Friday नाम दिया गया. ऐसी मान्यता भी है कि चूंकि यह यीशु के पुनरूत्थान का काल है और मृत्यु और पाप पर विजय का प्रतीक दिवस है, इसलिए भी इसे Good Friday कहा जाता है. एक मान्यता यह भी है कि यह एक पवित्र holy day है, इसलिए भी इसे Good Friday कहा जाता है. 
Advertisement

Comments

Other Story

Advertisement