Advertisement

kodarma

  • May 19 2017 8:48AM

डेढ़ घंटे जाम रहा रांची-पटना रोड

कोडरमा : भूमि अधिग्रहण में काॅरपोरेट कंपनियों को मदद करने, किसानों की जमीन जबरन छीनने व विधायक प्रदीप यादव को झूठा मुकदमा में गिरफ्तार कर जेल भेजे जाने के विरोध में झाविमो का राज्यव्यापी चक्का जाम कार्यक्रम के तहत कोडरमा में भी प्रदर्शन किया गया. झाविमो नेताओं के साथ ही सीपीआइ, सीपीएम के नेता गुरुवार सुबह को सड़क पर उतर व राज्य सरकार का विरोध किया. 
 
इस दौरान रघुवर सरकार होश में आओ, किसानों पर भूमि अधिग्रहण के नाम लाठी-गोली चलाना बंद करो, आम-आवाम के आंदोलन पर तानाशाही रवैया अपनाना बंद करो समेत सरकार विरोधी नारे लगाये जा रहे थे. प्रदर्शनकारियों ने सुबह 8:30 बजे शहर के महाराणा प्रताप चौक के पास रांची-पटना रोड को जाम कर दिया. चौक से कुछ ही दूरी पर पेट्रोल पंप के सामने नेता सड़क के बीच बैठ गये और सरकार के विरोध में नारेबाजी की. जाम का नेतृत्व झाविमो के केंद्रीय महासचिव खालिद खलील ने किया. 
 
करीब डेढ़ घंटे तक सड़क जाम रखा गया. मौके पर पहुंचे तिलैया थाना प्रभारी कामेश्वर ठाकुर, बीडीओ मिथिलेश चौधरी ने कानून का हवाला देकर जाम हटाने को कहा, नहीं तो कार्रवाई की चेतावनी दी. इसके बाद सभी नेता सड़क से हट गये. जाम की सूचना पर एसडीओ प्रभात कुमार बरदियार, एसडीपीओ चंदेश्वर प्रसाद मौके पर पहुंचे. तब तक जाम समाप्त हो चुका था. इससे पूर्व जाम के दौरान दोनों तरफ से वाहनों की लंबी कतार लग गयी. जाम से आम राहगीरों को परेशानी का सामना करना पड़ा. 
 
मौके पर खालिद खलील ने कहा कि रघुवर सरकार पूंजीपतियों के इशारे पर झारखंड के करोड़ों जनमानस के खिलाफ काम कर रही है. विधानसभा में झारखंड के गरीब, मजदूर, किसानों समेत दलित, आदिवासी व अल्पसंख्यकों की आवाज दबाने के लिए भाजपा सरकार लोकतंत्र की हत्या करने में लगी है. उन्होंने कहा कि रघुवर सरकार को अडानी-अंबानी समेत पूंजीपतियों व काॅरपोरेट घरानों के अलावा किसी की बात सुनना पसंद नहीं है. भूमि अधिग्रहण का मौजूदा प्रारूप झारखंडी लोगों के विरुद्ध है. रघुवर दास अडानी-अंबानी, पूंजीपतियों व काॅरपोरेट घरानों के दास हैं. भाजपा सरकार अंग्रेजी हुकूमत की तरह राज्य में शासन कर रही है. 
 
कहा कि प्रदर्शन को लोगों ने अपना जनसमर्थन देकर भाजपा सरकार को जता दिया कि लोग अन्याय व रघुवर सरकार के तानाशाही रवैये के खिलाफ झाविमो सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी के नेतृत्व में सत्ता परिवर्तन कर ही दम लेंगे. सीपीआइ के जिलामंत्री सह जिप सदस्य महादेव राम ने कहा कि केंद्र में मोदी सरकार व राज्य में रघुवर सरकार काॅरपोरेट घरानों की सरकार चला रही है. भूमि अधिग्रहण के जरिये कृषि आधारित जमीन को किसानों से जबरन छीन कर पूंजीपतियों को सौंप रही हैं. उन्होंने कहा कि केटीपीएस में डीवीसी ने जमीन अधिग्रहण कर किसानों को फटेहाल में छोड़ दिया है.
 
रघुवर सरकार की नीतियां जनविरोधी है. सीपीएम के जिला सचिव रमेश प्रजापति ने कहा कि किसानों की आवाज नहीं सुनने वाली सरकार रघुवर सरकार है. भाजपा सरकार चमकता भारत का सपना दिखाकर तड़पता भारत बनाने की नीतियों को लागू कर रही है.
 

Advertisement

Comments