Advertisement

gaya

  • Apr 20 2017 9:30AM

शिक्षकों की हड़ताल को कुछ संघों ने दिया समर्थन, तो कुछ ने मुंह मोड़ा

खिजरसराय: बिहार राज्य प्रारंभिक शिक्षक संघ की प्रखंड इकाई (नीमचक बथानी) की एक बैठक प्रखंड संसाधन केंद्र में हुई. इसमें  राज्य संघ के आह्वान पर घूम-घूम कर विद्यालय बंद कराने का निर्णय लिया  गया. इस बैठक में समान काम के लिए समान वेतन के लिए पूर्ण तालाबंदी और  अनिश्चितकालीन हड़ताल का निर्णय लिया गया. मौके पर प्रखंड अध्यक्ष अमरजीत  कुमार,मो शोएब आलम, संजय कुमार, सुबोध कुमार, साजन कुमार सहित अन्य लोग उपस्थित  थे. आमस प्रतिनिधि के अनुसार,समान कार्य के लिए समान वेतन की  मांग को लेकर प्रखंड क्षेत्र के साव में स्थित बीआरसी में बुधवार को प्रखंड अध्यक्ष कपिलदेव पासवान की अध्यक्षता में बैठक हुई. इसमें  सैकड़ों  शिक्षक शामिल हुए.

बैठक में सर्वसम्मत से निर्णय लिया गया कि  शिक्षक संघ के आह्वान पर 20 अप्रैल से प्रखंड के  सभी नियोजित शिक्षक अनिश्चितकालीन  हड़ताल पर रहेंगे. इस बात की जानकारी आमस  बीडीओ शंभु चौधरी और प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी राजेंद्र राम को भी लिखित  रूप में दी जा चुकी है. कोंच प्रतिनिधि के अनुसार,प्रखंड कार्यालय परिसर में  बुधवार को नियोजित शिक्षक संघ की एक बैठक हुई. इसकी अध्यक्षता  संघ के प्रखंड अध्यक्ष रंजीत कुमार व शौकत अली ने की. बैठक में सर्वसम्मत से निर्णय लिया गया कि जब तक राज्य स्तर पर  महासंघ का गठन नहीं होता है तब तक नियोजित शिक्षक संघ हड़ताल में शामिल नहीं होगा. वहीं प्रखंड मुख्यालय स्थित बीआरसी भवन में बुधवार को संकुल समन्वयकों की  साप्ताहिक बैठक हुई. इसकी अध्यक्षता प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी  इकबाल अहमद ने की. बैठक में  समारोह  आयोजित कर अभिभावकों के समक्ष बच्चों के प्रगति पत्र वितरण का निर्णय लिया गया.

डुमरिया प्रतिनिधि के अनुसार,बिहार राज्य प्रारंभिक शिक्षक  संघ के निर्देश पर डुमरिया में भी नियोजित शिक्षकों ने प्रखंड के सभी  विद्यालयों में पठन-पाठन बंद रखा. वजीरगंज प्रतिनिधि के अनुसार, वजीरगंज प्रखंड नियोजित शिक्षक संघ ने 19 अप्रैल से होने वाली नियोजित प्रारंभिक शिक्षकों की हड़ताल का विरोध किया है. संघ के प्रखंड अध्यक्ष राकेश कुमार ,मीडिया प्रभारी प्रभाकर कुमार व कोषाध्यक्ष अतीव चितानंद ने बताया कि प्रदेश में कई शिक्षक संघ के गठन से ताकत कमजोर पड़ गयी है. इसका फायदा सरकार उठा रही है.
 

Advertisement

Comments

Other Story

Advertisement