Advertisement

dhanbad

  • Apr 21 2017 7:56AM

धनबाद : कंटेनर में बंद कर ले जा रहे थे गाय-बैल-बछड़े, चार की हुई मौत, हिंदू संगठनों ने किया हंगामा

धनबाद : कंटेनर में बंद कर ले जा रहे थे गाय-बैल-बछड़े, चार की हुई मौत, हिंदू संगठनों ने किया हंगामा
झरिया/बस्ताकोला/मैथन : मैथन चेकपोस्ट के समीप बिहार के कैमूर से पश्चिम बंगाल तस्करी कर ले जाये जा रहे मवेशियों को मैथन पुलिस ने गुरुवार को पकड़ा. इन्हें बस्ताकोला स्थित झरिया-धनबाद गोशाला को सौंप दिया गया. इन मवेशियों में से चार की मौत हो चुकी थी. जब्त मवेशी बंद कंटेनर संख्या एचआर55टी-5364 में छुपाकर ले जाये जा रहे थे. कंटेनर में मवेशियों को ठूस कर रखा गया था. इन में सात गाय, 29 बैल व नौ बछड़े थे.

चार मवेशी मृत पाये गये. मामले की जानकारी मिलते ही हिंदू संगठन विहिप, बजरंग दल, धनबाद महानगर धर्मजागरण मंच व भाजपा के दर्जनों समर्थक गोशाला पहुंच गये और आक्रोश जताया. इनका आक्रोश देख मैथन पुलिस ने तत्काल झरिया थानेदार उपेंद्रनाथ राय से अतिरिक्त पुलिस बल लेकर गोशाला परिसर पहुंचने की बात कही. इससे पहले संगठन से जुड़े कार्यकर्ताओं ने गोशाला कर्मियों के सहयोग से कंटेनर से मवेशियों को उतारकर उन्हें पानी व चारा दिया. ये लोग मृत मवेशियों को देख पुलिस गिरफ्त में आये कंटेनर के चालक मो. शाकिर खान को तत्काल दंड देने की मांग करने लगे.
 
कैसे पकड़ में आये
 
दो कंटेनर गुरुवार की सुबह समेकित चेकपोस्ट की  बैरिकेडिंग तोड़ तीव्र गति से पश्चिम बंगाल की ओर भाग निकले.  बैरिकेडिंग के समक्ष सुरक्षा पर तैनात होम  गार्ड के जवानों ने घटना की  जानकारी चेकपोस्ट के अधिकारियों को दी.  अधिकारियों ने सूचना मैथन पुलिस को दी. पुलिस चेकपोस्ट के समक्ष एनएच  टू  पर छानबीन कर रही थी. इसी बीच उसी तरह का एक कंटेनर वहां आ पहुंचा. पुलिस ने कंटेनर को जांच के लिए रुकवाया. कंटेनर चारों तरफ से बंद था. जब ऊपरी हिस्से की जांच की गयी तो छत का कुछ हिस्सा खुला हुआ था. पुलिस  ने जब कंटेनर का दरवाजा खुलवाया तो उसमें 45 मवेशी पाये गये. पुलिस ने तत्काल कंटेनर चालक बिहार के मो. शाकिर आलम  खान व सहचालक मो. सरफराज को हिरासत में ले लिया. एसपीसीए इंस्पेक्टर तरुण कुमार सिंह  मौके पर पहुंच छानबीन की. पूछताछ में चालक व सहचालक ने बताया कि वे  लोग मवेशियों को बिहार के सासाराम स्थित कुदरा हाट से लोड कर कोलकाता ले जा  रहे थे. वैसे सूत्रों का कहना है कि बैलों को बांग्लादेश भेजने की योजना थी.
 
कंटेनर का शीशा तोड़ा 
 
कुछ युवकों ने गोशाला परिसर में खड़े कंटेनर पर पत्थर चलाकर शीशा तोड़ दिया. इस बीच बजरंग दल व विहिप के लोगों ने आक्रोशितों को पकड़कर गोशाला परिसर से बाहर भेज दिया. युवकों ने नारेबाजी करते हुए पशु तस्करों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की. मौके पर लल्लू झा, रमेश पांडेय, पिंटू दुबे, पप्पू पासवान, अर्जुन साव, कारू सिंह, महाजन साव, सतीश दुबे आदि मौजूद थे.
 
बर्बरता देख खुली रह गयीं आंखें
 
जब्त कंटेनर से मवेशियों को उतारने के दौरान पुलिस, गोशाला कर्मी व लोग दंग रह गये. कंटेनर में लदे मवेशियों का मुंह फीता व प्लास्टिक के रस्सी से बांधा गया था, ताकि वह आवाज नहीं कर सके. कई मवेशियों के सींग से दूसरे मवेशी घायल हो गये थे. उनके शरीर से खून रिस रहा था. 
 
पहले लेने से किया इनकार
 
जब्त मवेशियों को मैथन पुलिस लेकर झरिया गोशाला पहुंची. यहां गोशाला प्रबंधन ने अतिरिक्त मवेशियों को लेने से इनकार कर दिया. गोशाला प्रबंधक मुन्ना पांडेय का कहना था कि अतिरिक्त मवेशी का चारा, दवा व देखरेख करने के लिए फंड नहीं है. पूर्व में भी जब्त पशु की देखरेख का भुगतान गोशाला प्रबंधन को प्राप्त नहीं हो सका है. मैथन पुलिस ने इसकी जानकारी वरीय पदाधिकारियों को दी. अधिकारियों की पहल पर प्रबंधन ने पशु रखे.
 
 

Advertisement

Comments

Advertisement