Advertisement

buxar

  • Apr 21 2017 7:29PM

दानापुर-मुगलसराय रेल ट्रैक विस्फोट मामला : नक्सली सुभाष पासवान निकला मास्टरमाइंड

दानापुर-मुगलसराय रेल ट्रैक विस्फोट मामला : नक्सली सुभाष पासवान निकला मास्टरमाइंड

- आचार्य की गिरफ्तारी से मामले का हुआ खुलासा, अब सुभाष की बारी
-6 फरवरी को ट्रैक पर हुआ था विस्फोट, अपर इंडिया उड़ाने की थी साजिश 
-विस्फोट के बाद सुभाष ने आचार्य को दिया था 41 हजार व 3 मोबाइल

बक्सर :
दानापुर-मुगलसराय रेलखंड के नदांव हाल्ट पर हुए ट्रैक विस्फोट मामले में एटीएस के इनपुट पर बक्सर के जीआरपी थानाध्यक्ष अली अकबर ने आरा के गोढ़ना रोड में छापेमारी कर आचार्य को धर दबोचा. इसके पहले टीम ने अगरेर से ट्रैक पर बम फेंकने वाले मनोज को धर दबोचा था. अभी भी नक्सली सुभाष पासवान पुलिस गिरफ्त से बाहर है. गिरफ्तार आचार्य मूलरूप से बक्सर जिले के चक्की पांडेयपुर गांव निवासी दशरथ पांडेय का पुत्र दयाशंकर पांडेय है.

महज दो समोसे का लालच देकर मनोज से ट्रैक पर कराया ब्लास्ट
पुलिस ने जब सख्ती से पूछताछ करनी शुरू की तो परत दर परत पूरा मामला खुलकर सामने आ गया. महज दो समोसे का लालच देकर नक्सली सुभाष पासवान ने मनोज से ट्रैक पर ब्लास्ट कराया था. इस ब्लास्ट के बाद मामले की जांच और घटना में शामिल अपराधियों की गिरफ्तारी को लेकर एटीएस के साथ-साथ आरपीएफ और जीआरपी को भी लगाया गया था. घटना के बाद से लगातार सुभाष पासवान आचार्य के संपर्क में था. नक्सली सुभाष ने आचार्य को 41 हजार रुपये और 3 मोबाइल भी दिये थे.

ऐसे पकड़ में आया आचार्य
घटना के बाद से ही एटीएस की टीम लगी हुई थी. सुभाष लगातार आचार्य के संपर्क में था. आचार्य को सुभाष की सभी गतिविधियां पता थी. समय-समय पर वह सुभाष को पुलिस की गतिविधियों की सूचना भी देता था. बुधवार को भी आचार्य के नंबर पर सुभाष ने बात की थी. जिसके बाद टीम ने गुरूवार की रात आरा के नवादा थाना क्षेत्र के गोढ़ना रोड में छापेमारी कर आचार्य को धर दबोचा. आचार्य का मोबाइल पहले से ही सर्विलांस पर डाला गया था. जैसे ही दोनों के साठगांठ होने की जानकारी पुलिस को पुख्ता मिली उसे गिरफ्तार कर लिया.

हैरत में गांववाले, मदरसा शिक्षक का बेटा निकला आतंकी


बम फेंकने के बाद जासो में महिला से टकराया था मनोज
छह फरवरी को मनोज बम फेंकने के बाद जासो गांव होते हुए भाग रहा था. इसी दौरान एक महिला से टकरा गया. पुलिस ने जब महिला से उसकी पहचान करायी तो महिला ने उसे देखते ही पहचान कर ली. महिला के कहने पर ही ब्लास्ट के आरोपियों का स्कैच तैयार किया गया था.जिसके बाद से ही टीम लगातार गिरफ्तारी को लेकर लगी हुई थी.

 


Advertisement

Comments

Advertisement