Advertisement

anya khel

  • May 16 2017 8:07AM

अच्छी खबर! खिलाड़ियों को विदेश में ट्रेनिंग देगा खेल विभाग

अच्छी खबर! खिलाड़ियों को विदेश में ट्रेनिंग देगा खेल विभाग

लाइफ रिपोर्टर @ रांची

life.ranchi@prabhatkhabar.in

झारखंड के प्रतिभावान खिलाड़ियों को देश के बेहतर संस्थान या फिर विदेश में ट्रेनिंग के लिए भेजा जायेगा, ताकि ओलिंपिक के लिए उन्हें तैयार किया जा सके. यह बातें सोमवार को खेल विभाग के प्रेस कांफ्रेंस में खेल मंत्री अमर कुमार बाउरी ने कही. उन्होंने इस अवसर पर विभाग की ओर से तैयार कई योजनाओं की भी जानकारी दी. खेल मंत्री ने कहा कि जल्द ही जेपीएससी के माध्यम से जिला खेल पदाधिकारियों की नियुक्ति की जायेगी.

प्रेस कांफ्रेंस में खेल निदेशक रणेंद्र कुमार, अमिताभ कुमार, मनोहर टोपनो सहित विभाग के सभी पदाधिकारी मौजूद थे. श्री बाउरी ने कहा कि हम एक इनोवेटिव योजना शुरू करने की तैयारी कर रहे हैं, जिसमें प्रतिभावान खिलाड़ियों, जो देश में कहीं या फिर विदेश में जाकर प्रशिक्षण लेना चाहते हैं, उनको खेल विभाग मदद करेगा. इसमें किसी भी खेल के खिलाड़ी हो सकते हैं.

चार सेंटर फॉर एक्सीलेंस खोलेगा विभाग

खेल निदेशक रणेंद्र कुमार ने बताया कि प्लस टू के बाद जिन खिलाड़ियों ने उपलब्धियां हासिल की है, उनके लिए विभाग सेंटर फॉर एक्सीलेंस खोलने की तैयारी कर रहा है. विभाग की ओर से हॉकी, आर्चरी, फुटबॉल व बैडमिंटन के चार सेंटर फॉर एक्सीलेंस खोले जायेंगे. हॉकी के लिए पुराने हॉकी कप्तानों से बात की जायेगी. इसके तहत धनराज पिल्लै अकादमी से भी बात की जा रही है. वहीं आर्चरी में खिलाड़ियों को प्रशिक्षण देने के लिए कोरिया से कोच मंगाये जायेंगे. इसके अलावा बाकी सेंटरों में प्रशिक्षण देने के लिए देश-विदेश के बेहतर कोचों से बात की जायेगी.

सभी प्रखंड में शुरू होगा डे-बोर्डिंग सेंटर

सभी प्रखंड में डे-बोर्डिंग सेंटर खोलने की भी योजना है. अभी राज्य में 26 आवासीय व 85 डे-बोर्डिंग सेंटर हैं.इसके प्रशिक्षकों को टैब मिलेगा.हैंडीकैम व एलइडी टीवी दिये जायेंगे. खिलाड़ियों के लिए बेहतर भोजन की भी व्यवस्था की गयी है.

40 को सर्टिफिकेट व 20 को एनआइएस डिप्लोमा

खेल विभाग की ओर से झारखंड के 40 खिलाड़ियों को सर्टिफिकेट व 20 को एनआइएस डिप्लोमा कोर्स कराया जायेगा. खेल विभाग की ओर से बनायी गयी कमेटी आवेदनों को छांटने का काम करेगी. कोर्स में एडमिशन से पहले खेल विभाग सभी कैंडिडेट से बांड भरवायेगी, जिसमें ये लिखा होगा कि कोर्स कर के वापस आने पर खिलाड़ी को दो साल तक सरकार को सेवा देनी होगी. इसके बाद ही वो कहीं और जुड़ सकते हैं.

Advertisement

Comments

Advertisement